0
checked

करेला (Bitter Gourd) की उन्नत खेती

submitted 3 months ago, Saturday, Jul 29, 2017, 09:35:11 by sp3131012 in Food / Beverage
करेला (Bitter Gourd) की उन्नत खेती
करेला की अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए 80 कि.ग्रा. नाइट्रोजन, 60 कि.ग्रा. फास्फोरस एवं 60 कि.ग्रा. पोटाश का प्रयोग करें। इसके साथ-साथ 20 टन/ है.
rated 0 times (+0)  (-0) - comments: 0 - hits: 83 - agriavenue.com

Comments

There are no comments for this article.
Only authorized users can leave comments. Please sign in first, or register a free account.
 
Share
Sponsor
Published By
sp3131012

sp3131012

Member since Jul 15, 2017
Location: n/a
Following
User not following anyone yet.
You might also like
??? (Peaches) ?? ?????? ??????? ??? ??? ??????? ???? ????? ???? ????? ????? ???????
??? ?? ???? ???? ??????? ???????, ???? ??? ???? ??? ???? ????????? ??? ?? ???? ??? ?? ????? ?? ???? ??? ??? ???? ??????? ?? ?????????? ???? ???? ??????
?????? (Apricot) ?? ?????? ??????? ??? ??? ??????? ???? ????? ???? ????? ????? ???????
?????? ?? ???? ??????? ???? ??????? ??????? ??? ?? ???? ?? ??? ?? ??? ?? ??? ??? ??? ?? ?????? ?? ?? ???? ???
????? (Walnut) ?? ?????? ??????? ??? ??? ??????? ???? ????? ???? ????? ????? ???????
????? ?? ????? 10 ??. ???? ?? ???? ??? 10 ??. ???? ?? ???? ?? ???? ?? ??? ??? ?? ?? ???? ?? ????? ?????? ????? ?? ???? ????? ??????? ?? ?? ????? ??????
????? (Almonds) ?? ?????? ??????? ??? ??? ??????? ???? ????? ???? ????? ????? ???????
????? ?? ????? ?? 5 ??. ???? ?? ???? ??? 5 ??. ???? ?? ???? ?? ???? ?? ????? ?????? ????? ?? ?????, ????? ????? ??? ???? ?? ???? ??? ?? ???? ?????
जानिए कैसे होते है आम (Mango) के भाग की स्थापना एवं देखभाल
आम फलों का राजा कहा जाता है। व्यापारिक तौर पर इसकी खेती समुद्र तल से 600 मीटर की ऊचांई तक सफलतापूर्वक की जाती है।
जानिए कैसे होते है लीची (Lychee) के भाग की स्थापना एवं देखभाल
लीची एक स्वादिष्ट फल है। इसकी खेती उन क्षेत्रो मे सफलतापूर्वक की जा सकती है जहाँ गर्म हवालों (लू) तथा पाले का प्रकोप न होता हो।
जौ(Barley) की उन्नत प्रजातियाँ , पैदावार कुन्तल/हेक्टेयर एवं विशेषताए|
इसका उपयागे मानव, पशुओं के चारे व दाने में एवं बियर आदि बनाने में किया जाता है। असिंचित दशा में जौ की खेती गेहूँ की अपेक्षा अधिक लाभपद्र है